Tuesday, April 26, 2011

आज अपने पे हंसने का मन हो रहा है :-) :-) :-) एक कडवी सच्चाई ........ पर एक व्यंग के रूप में ...

ज्यादा मुस्कुराइये मत ...??? ये आप का आने वाला 
कल भी हो सकता है !!!
  
फर्क कल और आज में !
क्या वो भी दिन थे 
जब निकलता था मैं 
घर से काम को | 
छज्जे पे खड़े हो कर 
                                       पूछते थे वो "प्यार" से 
                                            वापस घर कब आओगे| 

अब क्या आज के दिन है 
सुबह उठते ही वो 
खड़े हो जाते दरवाज़े पर !
केहते हैं बड़े तीखे "वार" से  
जल्दी करो ,और भी काम हैं 
अब !कब!!!! घर से जाओगे ? |

अशोक"अकेला"|

7 comments:

  1. आखिरी सांस से पहले हम
    अपनी तकलीफें भूल चुके
    रिश्ते नातों और प्यारों का
    अहसान, अभी भी भारी है

    ReplyDelete
  2. सही लिखा है आपने,

    ये लाल रंग में धमकी है अथवा चेतावनी? :)

    ReplyDelete
  3. हम तो भुलाए रखेंगे कल को भाई जी .....शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  4. बहुत खूब
    सच्चाई तो यही है

    ReplyDelete
  5. वक्त-वक्त की बात है सलूजा साहब ! आपने मेरा इ-मेल पता जानना चाहा था, वह यह है ; godiyalji@gmail.com

    ReplyDelete
  6. तकलीफदेह है...पर सच यही है

    ReplyDelete
  7. धार्मिक मुद्दों पर परिचर्चा करने से आप घबराते क्यों है, आप अच्छी तरह जानते हैं बिना बात किये विवाद ख़त्म नहीं होते. धार्मिक चर्चाओ का पहला मंच ,
    यदि आप भारत माँ के सच्चे सपूत है. धर्म का पालन करने वाले हिन्दू हैं तो
    आईये " हल्ला बोल" के समर्थक बनकर धर्म और देश की आवाज़ बुलंद कीजिये...
    अपने लेख को हिन्दुओ की आवाज़ बनायें.
    इस ब्लॉग के लेखक बनने के लिए. हमें इ-मेल करें.
    हमारा पता है.... hindukiawaz@gmail.com
    समय मिले तो इस पोस्ट को देखकर अपने विचार अवश्य दे
    देशभक्त हिन्दू ब्लोगरो का पहला साझा मंच
    हल्ला बोल

    ReplyDelete

मैं आपके दिए स्नेह का शुक्रगुज़ार हूँ !
आप सब खुश और स्वस्थ रहें ........

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...