Wednesday, June 08, 2011

आज के समय की पुकार ...जो हर सच्चे,वीर और देशभक्‍त ;देशवासी की है ...


ये हर उस देशवासी की लड़ाई है ,भ्रष्टाचार के खिलाफ़
जो अपने देश को , भ्रष्टाचारियों से मुक्‍त कराना
चाहता है |
मैं भी उन में से एक हूँ ,और मेरे जैसे भी बहुत हैं...
जैसा की मैंने हमेशा माना ,कि मेरे पास शब्दों की
कमी है ,पर मेरी ये भावनाएं हैं और बहुत से एहसास हैं |
जिन्हें मैं इस 'गीत' के द्वारा आप तक पंहुचाना और
महसूस कराना चाहता हूँ |
यही भावनाएं ,एहसास आप,मेरे और हम सब भारतवासियों
के भी होंगें ,इसका मुझे पक्का और अटल विश्वास है |
हम सब भारतवासी अपने भारत से अटूट प्रेम करतें हैं |

तो आइये सुनते हैं ,वो गीत जो हमारी खून भरी रगो में
एक इन्कलाब पैदा कर देगा ...जिसकी हम सब को बहुत
ज़रूरत है ....
Rafi Ji 
वतन की राह ,हमें वतन; के नौजवान शहीद हो ...
वर्ष :1948
फिल्म: शहीद 
पर्दे पर: दलीप कुमार और साथी 
स्वर:  रफ़ी और साथी 
संगीतकार: गुलाम हैदर 
गीतकार: कमर ज़लालाबादी 
सहकलाकार:  कामिनी कौशल 


शुभकामनाएँ आप सब को ...जय भारत !

20 comments:

  1. देश प्रेम के भाव हम सबके मन में सदैव बने रहें ....... यह गीत बहुत पसंद है .....आभार

    ReplyDelete
  2. ाइसे प्रेरक गीत लिखने वाले अब न तो लेखक रहे और न ही कोई नेता हैं\ लोग दिशाहीन से भटक रहे हैं ऐर दिशा दिखाने वाले सत्ता सुख के लिये आतंक की राह पर चलने को तैयार बैठे हैं\ बहुत सुन्दर गीत है। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  3. बहुत ही प्रेरणादायी गीत है। जय हिंद !

    ReplyDelete
  4. नहीं अशोक जी , सब के नहीं , कुछ के ही अहसास बचे हैं । तभी तो देश भ्रष्टाचार में डूबा है ।
    लेकिन सही याद दिलाया है ।

    ReplyDelete
  5. बड़ा ही अच्छा लगता है यह गीत।

    ReplyDelete
  6. इस गीत की तो बात ही निराली है......

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छा है ये देश भक्ति का गीत

    ReplyDelete
  8. बिल्कुल समय के अनुकूल...

    ReplyDelete
  9. गीत बहुत पसंद है प्रेरणादायी गीत

    ReplyDelete
  10. कुछ व्यक्तिगत कारणों से पिछले 15 दिनों से ब्लॉग से दूर था
    इसी कारण ब्लॉग पर नहीं आ सका !

    ReplyDelete
  11. जय भारत ... बहुत पसंदीदा गीत है मेरा ... धन्यवाद आपका ..इसे पुनः देखा .. आपके ब्लॉग में आ कर

    ReplyDelete
  12. ye geet aaj bhi josh bahr deta hai
    aabhar

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर गीत और देश के लोगों को जागृत करती खुबसूरत पोस्ट |
    हम साथ साथ हैं |
    जय हिंद |

    ReplyDelete
  14. यादें में हिंदी फ़िल्मी गीतों के ऐसे गीत सुना कर / दिखा कर अंतर्मन को आनंदित कर दिया अपने.पुरानी पोस्ट में जाकर चाँद फिर निकला, न हँसो हमपे ज़माने के हैं ठुकराए हुए जैसे अनमोल गीतों का रसास्वादन करते रहता हूँ.हिया जरत रहत दिन रैन तो मेल से ही मिल गया था .प्रत्युत्तर में मैंने मेल किया था एक बार चेक कर लेंगे.

    ReplyDelete
  15. Jai Hind jai Bharat sir ....!Ye Geet mujhe bhi bahut pasand hai.

    ReplyDelete
  16. Lajawaab geet ... Rafi ji ki aawaaz dil ko hilaa deti hai ... aasha hai jaldi hi vo samay aayga jab bhaarat sach mein in buraaiyon se chutkaara paayga ...

    ReplyDelete
  17. आप तो हमारे संत -ब्लोगिये हैं सरकार ,संतों को डिग्री की कहाँ दरकार .कबीरा कुछ न बन जाना तजके मान गुमान .
    इस शहीदाना ज़ज्बे को सलाम .शहीद का गीत ऐसे मौकों पर बजे तो अच्छा लगता है ,जो फिज़ा आज है उसमे ऐसे गीतों की ज़रुरत है .चुनावी फिज़ा इन गीतों को भी खूब भुनाती है .आभार आपका .आखिर करते करते हम भी आपकी हित लिस्ट में आ ही गए ,आपका लाड दुलार पा ही गए .

    ReplyDelete
  18. आप सब को ये गीत सुन कर खुशी हासिल हुई ,और मुझे आप को खुश कर के खुशी हुई | मैं अपने मकसद में कामयाब हुआ |
    आप सब के यहा आने का बहुत-बहुत शुक्रिया |
    आप सब खुश और स्वस्थ रहें |

    ReplyDelete
  19. बचपन में स्कूल की तरफ से 'शहीद' फिल्म बच्चों को दिखलाई गई थी.
    यह गाना सुनकर मन में हमेशा जोश भर जाता है.
    गाना सुनवाने के लिए बहुत बहुत आभार,यार चाचू.

    ReplyDelete

मैं आपके दिए स्नेह का शुक्रगुज़ार हूँ !
आप सब खुश और स्वस्थ रहें ........

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...