Friday, April 06, 2012

याद आ गया कोई ....

मैं लगा रहा था उनको गले 
वो बना रहें थे ,मुझसे दुरी 
मेरी तो फ़ितरत ही ऐसी है 
होगी कुछ उनकी भी मज़बूरी |
 ----अशोक"अकेला"



-----अकेला 

23 comments:

  1. vaah Ashok ji aapki is rachna ne to aankhe nam kar di dil tak pahuch gai aapki ye panktiyan.

    ReplyDelete
  2. यादों में ही है घोंसला और बसेरा .... रात के बाद यहीं सुबह भी होती है

    ReplyDelete
  3. यादें ही तो सहारा बनती हैं अकेले पन का ...
    जब यादें हैं तो अकेलापन कैसा ....!!
    मर्मस्पर्शी रचना ... ...
    शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  4. वाह.....................

    मैं लगा रहा था उनको गले
    वो बना रहें थे ,मुझसे दुरी
    मेरी तो फ़ितरत ही ऐसी है
    होगी कुछ उनकी भी मज़बूरी |

    बहुत खूबसूरत पंक्तियाँ.................
    एक याद किस कदर हसीन शायरी पैदा करती है...........
    लाजवाब..

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  5. ये यादें भी बड़ी अज़ीब होती हैं इनसे पीछा जितना छुड़ाने की कोशिश करो उतनी ही पीछे पड़ती रहती हैं...पर एक बात है याद अगर मीठी हो तो रस घोल देती है अकेले की बाक़ी ज़िन्दगी में

    ReplyDelete
  6. वाह क्या बात है! यादें गर हसीन हों तो रस घुल जाता है अकेले की ज़िन्दगी में

    ReplyDelete
  7. गुरुवर के आदेश से , मंच रहा मैं साज ।
    निपटाने दिल्ली गये, एक जरुरी काज ।

    एक जरुरी काज, बधाई अग्रिम सादर ।
    मिले सफलता आज, सुनाएँ जल्दी आकर ।

    रविकर रहा पुकार, कृपा कर बंदापरवर ।
    अर्जी तेरे द्वार, सफल हों मेरे गुरुवर ।।

    शनिवार चर्चा मंच 842
    आपकी उत्कृष्ट रचना प्रस्तुत की गई है |

    charcamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  8. पिछले कुछ दिनों से अधिक व्यस्त रहा इसलिए आपके ब्लॉग पर आने में देरी के लिए क्षमा चाहता हूँ...


    मेरी तो फ़ितरत ही ऐसी है
    होगी कुछ उनकी भी मज़बूरी |

    बहुत खूबसूरत पंक्तियाँ
    ....... रचना के लिए बधाई स्वीकार....!!!!

    ReplyDelete
  9. यादें बनी रहे...!
    सादर!

    ReplyDelete
  10. यादों के जंगल में खोई खोई ज़िन्दगी ,

    रोई थी कल रात बहुत ज़िन्दगी .

    अच्छी रचना .

    ReplyDelete
  11. वाह!!!!!!बहुत सुंदर रचना,अच्छी प्रस्तुति........

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: यदि मै तुमसे कहूँ.....

    ReplyDelete
  12. प्रस्तुति सहज सरल जुबां और बिंदास अंदाज़ लिए है .

    यादों के जंगल में खोई खोई ज़िन्दगी ,

    रोई थी कल रात बहुत ज़िन्दगी .

    कहती थी -

    मेरी ज़िन्दगी में आते तो कुछ और बात होती .....

    ReplyDelete
  13. सुख तो अपना प्यार बढ़ाने में मिलता है, वापस मिल जाये तो और भी आनन्द।

    ReplyDelete
  14. अशोक जी इस भावपूर्ण रचना के लिए बधाई स्वीकारें

    नीरज

    ReplyDelete
  15. यादों का सफर यूँ ही चलता रहेगा...

    ReplyDelete
  16. बहुत भावपूर्ण पंक्तियाँ....

    ReplyDelete
  17. बहुत -बहुत सुन्दर बेहतरीन रचना.....

    ReplyDelete
  18. वाह जी, बहुत उम्दा रचना है..बधाई आपको!

    ReplyDelete
  19. यादें कितनी सुहानी होती हैं।

    ReplyDelete
  20. मनोभावों को बेहद खूबसूरती से पिरोया है आपने.......
    हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  21. हमसे शेअर करे और क्या??
    यादें तो एक कम होती है तो दो नई जमा हो जाती है.यादें अच्छी लगती है. बुरी यादें अनुभव के खजानों में ईजाफा करती है वीरजी!
    दर्द सा झलकता है इस रचना में....

    ReplyDelete

मैं आपके दिए स्नेह का शुक्रगुज़ार हूँ !
आप सब खुश और स्वस्थ रहें ........

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...