Friday, August 03, 2012

बचपन अधूरा सही...बेचारा नही....


अपने अतीत को सम्भाल कर रखो 
आप के भविष्य में काम आऐगा....
....अकेला

अशोक'अकेला'


35 comments:

  1. दिल की सुनने वालों का संबल सदा ही बना रहता है.....

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया आपका ..:-)
      खुश रहें !

      Delete
  2. बेहतरीन अभिव्यक्ति.....

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर...कोमल भावों की गहन अभिव्यक्ति....

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  4. कोमल पंक्तियाँ, बचपन की स्मृतियाँ सदा बहलाती हैं..

    ReplyDelete
  5. बचपन की स्मृतियों का कोई मोल नहीं...कोमल भाव लिए सुन्दर सी रचना

    ReplyDelete
  6. वाह , कोमल भावों से सनी पंक्तिया बधाई

    ReplyDelete
  7. भावमय करते शब्‍दों का अनूठा संगम ... आभार

    ReplyDelete
  8. खूबसूरत रचना सर...

    सादर।

    ReplyDelete
  9. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (04-08-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  10. आत्म विश्वास हो तो बेचारा हो ही नहीं सकते .
    बढ़िया !

    ReplyDelete
  11. गहरे भाव और अहसास लिए
    बहुत -बहुत सुन्दर रचना और प्रस्तुतीकरण....
    :-)

    ReplyDelete
  12. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  13. यादो को खुद यादकर,सुनता रहे अकेला
    रिश्ते सारे मतलब के,काहे पाले झमेला,,,,

    अपने अहसासों को पिरोये लाजबाब प्रस्तुति के लिए,,,,,अशोक जी,बधाई,,,
    RECENT POST काव्यान्जलि ...: रक्षा का बंधन,,,,

    ReplyDelete
  14. चलते चलिए ...मंजिल खुद करीब आ जाएगी ...(खूबसूरत यादों का सफर )

    ReplyDelete
  15. दिल के उदगार लिखे हैं ... मर्म को छूते हुवे गुज़र जाता है हर शब्द ...
    लाजवाब ...

    ReplyDelete
  16. निहायत ही खुबसूरत और गहरे अहसासात लिए आज बचपन की यादों की माला तैयार की है आपने.खूब बधाई.



    मोहब्बत नामा
    मास्टर्स टेक टिप्स

    ReplyDelete
  17. कोमल से एहसासों से बुनी सुंदर रचना

    ReplyDelete
  18. आप सब के स्नेह,प्यार और खलूस का में दिल
    से शुक्रगुज़ार हूँ !
    खुश और स्वस्थ रहें !

    ReplyDelete
  19. खूबसूरत भावमय प्रेरक प्रस्तुति.

    जिसने हृदय में प्रेम की जोत जगा ली
    वह 'अकेला' कैसे हो सकता है.

    आभार.यार चाचू.

    ReplyDelete
  20. आज 14/08/2012 को आपकी यह पोस्ट (विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति मे ) http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    ReplyDelete
  21. बहुत खूब! आपको स्वतंत्रता दिवस के मौके पर हार्दिक बधाईयां....

    ReplyDelete
  22. बहुत नाजुक शब्दों में पिरोई रचना, शानदार अभिवयक्ति

    ReplyDelete
  23. आप सब का दिल से आभार ....
    सदा खुश और स्वस्थ रहें!

    ReplyDelete
  24. बहुत सुंदर रचना
    सच में ऐसी रचना कम ही पढने को मिलती हैं।

    ReplyDelete
  25. इस मान-सम्मान और प्यार के लिए ....
    स्नेह भरा आभार !

    ReplyDelete
  26. बाऊ जी,
    नमन आपकी कलम को, और आपको पैरी पौना!!!
    आशीष
    --
    द टूरिस्ट!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आशीष !
      सदा स्वस्थ और खुश रहो !
      आशीर्वाद!

      Delete
  27. Spot on with this write-up, I actually feel this amazing site needs a lot more
    attention. I'll probably be back again to see more, thanks for the info!
    Also visit my webpage ; click here

    ReplyDelete

मैं आपके दिए स्नेह का शुक्रगुज़ार हूँ !
आप सब खुश और स्वस्थ रहें ........

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...