Friday, August 23, 2013

माँ से मुलाकात ......ख़्वाबों में !!!

सोने से पहले, पुकारता हूँ मैं "माँ" 
कितने पवित्र ये, दो शब्द के बोल हैं 
सब दुःख दर्द, ये मेरे हर ले जाएँ 
बोल के परखो, ये इतने अनमोल हैं.... 
अशोक "अकेला"
माँ से मुलाकात ......ख़्वाबों में !!!

 जब कभी मैं, परेशानी में होता हूँ
 मैं माँ की, निगेहबानी में होता हूँ

 सोने से पहले, आँखों को धोता हूँ
 तू आ ख्वाबों में, अब मैं सोता हूँ

 वो सिरहाने मेरे, जागती है रात-भर
 मैं चैन से उसके, आँचल में सोता हूँ

 वो बेचैन हो जाती है, देख के मुझको
 मैं जब कभी डर के, सपनों में रोता हूँ

 ममता से भरा हाथ, फेरती है माथे प
 हंसी उसके लब, मैं मुस्कुरा रहा होता हूँ

 छुपा के सर गोदी में, गुदगुदा के उसको
 झूठी-मुठी रूठी माँ को, मना रहा होता हूँ ....

 काश! मेरी नींद न टूटती उम्र भर ......

अशोक'अकेला'

42 comments:

  1. सच है, निश्चिन्तता का वह भाव अवर्णनीय है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सच कहा आपने ... अवर्णनीय!
      खुश रहें!

      Delete
  2. माँ से मुलाकात के पल कभी कम न हों, ये ख्वाब हमेशा साथ रहे... नींद में भी और नींद से परे भी!
    सुन्दर रचना!

    सादर चरणस्पर्श!

    ReplyDelete
    Replies
    1. खुशियों भरा स्वस्थ जीवन हो ...आपका !

      Delete
  3. अनुपम भावपूर्ण सुंदर गजल ;?उम्दा प्रस्तुति,,,,,

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया भाई जी .....

      Delete
  4. वाह ,बहुत सुन्दर
    सुंदर गजल

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया अशोक जी ...

      Delete
  5. मां की कमी आजीवन सालती रहती है, बहुत भावुक रचना.

    रामराम.

    ReplyDelete
    Replies
    1. ताऊ भाई राम-राम ...जय हो मलंग बाबा की ...
      क्या कहूँ ...? खुश रहो !

      Delete
  6. काश के नींद कभी न टूटती...सच!!!
    बहुत प्यारी,भावपूर्ण ग़ज़ल.

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. अनु ...आप के लेखन में गहराई है !
      शुभकामनायें!

      Delete
  7. Replies
    1. शुक्रिया "गाफ़िल' जी ...

      Delete
  8. अशोक जी ! लाजवाब ग़ज़ल ..काश! के नींद कभी न टूटती........
    latest post आभार !
    latest post देश किधर जा रहा है ?

    ReplyDelete
  9. बहुत प्यारी,भावपूर्ण सुन्दर ग़ज़ल....

    ReplyDelete
  10. माँ का साथ हमेशा शुकूनकारी होता है

    बहुत सुन्दर
    सादर आभार !

    ReplyDelete
  11. bahut achchi kavita, duniya ki sabse pyare ehasas ko jagane wali kavita

    ReplyDelete
    Replies
    1. शर्मा जी ..आपकी तरफ़ से कुछ पढने को नही मिला ....
      शुभकामनायें !

      Delete
  12. भावपूर्ण सुंदर,बहुत भावुक रचना सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका स्वागत है ..आभार!

      Delete
  13. Replies
    1. जन्म दिन की मुबारक और शुभकामनयें !

      Delete
  14. माँ के साये में .... हमेशा सुकून
    भावमय करते शब्‍द एवं प्रस्‍तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया सदा जी ...
      शुभकामनायें!

      Delete
  15. माँ की तरह कोमल भावनाओं में लिपटी रचना....बहुत प्यारी!

    ~लाल के सिरहाने जागे माँ...
    जागती माँ के सिरहाने बैठे कौन... ~

    ~सादर!!!

    ReplyDelete
    Replies

    1. --माँ का वो लाल .महसूस करे जो
      करके बन्ध होठों से रहकर मौन .....

      खुश और स्वस्थ रहो ...बहुत-बहुत शुभकामनायें !

      Delete
  16. बहुत सुंदर और भावुक प्रस्तुति अशोकजी।।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सदा खुश रहें अंकुर जी .....

      Delete
  17. माँ का ख्याल ही सुकून दे जाता है .... बहुत भाव प्रबल गज़ल

    ReplyDelete
    Replies
    1. ठीक कहा है ..संगीता जी आपने !
      मेरा तो सुकून ही ख्यालों में रहा है .....
      स्नेह के लिए आभार !

      Delete
  18. दिल को छू लेनेवाली
    प्यारी सी अति उत्तम रचना...
    :-)

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया रीना बेटा...कैसी चल रही है नई दुनिया ....
      शुभकामनायें!

      Delete
  19. हर उम्र में माँ के लिए मन बच्चा ही रहता है.
    बहुत भावपूर्ण रचना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. ठीक कहा डॉ.साहब आपने .....दिल तो बच्चा है जी !
      शुक्रिया जी ...

      Delete
  20. माँ की याद फिर बचपन में ले जाती है...बहुत भावमयी रचना...

    ReplyDelete
    Replies
    1. ठीक कहते हैं शर्मा जी आप ....!
      आभार आपका !

      Delete
  21. वो सिरहाने मेरे, जागती है रात-भर
    मैं चैन से उसके, आँचल में सोता हूँ ..

    कभी कभी सोचता हूं ऐसे ही नहीं लिखा जा सकता ग्रन्थ माँ के ऊपर ... दरअसल माँ होती ही ऐसी है की कई कई ग्रन्थ लिख कर भी उसकी महिमा कहना आसान नहीं ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. नासवा जी .. पुरानी चोट को कुरेदने से दर्द होता है ..और नई चोट तो बस दुखती ही रहती है ..न जाने कब तक .....!
      आपके लिए शुभकामनायें !
      स्नेह के लिए आभार !

      Delete

मैं आपके दिए स्नेह का शुक्रगुज़ार हूँ !
आप सब खुश और स्वस्थ रहें ........

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...