Saturday, June 23, 2012

मेरी माँ ...

उदासी,दुःख और तकलीफ़ में सिर्फ़ एक 
इंसान की याद आती है ....???
जिसने आपको जीवन में सबसे ज़्यादा प्यार 
किया हो,और आपने उसको सबसे ज़्यादा 
तंग किया हो ...इस लिए.....   








32 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज शनिवार के चर्चा मंच पर भी की गयी है!
    सूचनार्थ...!

    ReplyDelete
  2. मर्मस्पर्शी भाव..... माँ को नमन

    ReplyDelete
  3. भावुक करती रचना, आपकी नानी को नमन..

    ReplyDelete
  4. naaniyan itti acchhi hi hoti hain. kyuki vo maa ki bhi maa hain na.....isliye aur bhi acchi hoti he nani.

    ReplyDelete
  5. नानी को सादर नमन.....भावपूर्ण रचना..अशोक जी

    ReplyDelete
  6. भावपूर्ण रचना...
    नानी जी को सादर नमन...

    ReplyDelete
  7. बहुत प्यारी रचना.....
    मेरी नानी भी ऐसे ही प्यार करतीं थीं .....और बहुत प्यारी थीं...

    सादर नमन.

    अनु

    ReplyDelete
  8. नानी को समर्पित बहुत मार्मिक रचना,,,,सादर नमन,,,

    MY RECENT POST:...काव्यान्जलि ...: यह स्वर्ण पंछी था कभी...

    ReplyDelete
  9. भावमय करते शब्‍दों का संगम ..
    नानी जी को सादर नमन

    ReplyDelete
  10. सुन्दर भावांजली सर...
    सादर।

    ReplyDelete
  11. माँ को नमन, नानी को सादर नमन

    ReplyDelete
  12. अशोक जी
    अच्छी और नाज़ुक एहसासात से रची बसी रचना...
    मैं भी अपनी नानी से बहुत भावुक रूप से जुडा हुआ हूँ तो ऐसे में ये कविता पसंद आनी ही थी.
    बहुत बहुत साधुवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार आपका ...
      खुश और स्वस्थ रहें!

      Delete
  13. इसीलिए कहतें हैं -बस 'मर गई तेरी नानी' यानी हो गई तेरी ऐसी की तैसी ,'ऐसा गाल पे मारूंगा खींचके नानी याद आ जाएगी ' तो ज़नाब अशोक भाई साहब ऐसे बिम्ब जुड़ें हैं नानी साहिबा से .कुशल पहुँच गया हूँ ,43,309 ,Silver Wood DR,CANTON,MI,48,188
    001-734-446-5451

    ReplyDelete
  14. अति संवेदन शील प्रस्तुति नानी जी को नमन, माँ इस दुनिया से तो चली जाती है मगर अपने बच्चों के मन में सदा जीवत रहा करती है। इसलिए उदास ना हों आपकी माँ और आपकी नानी चाहे आज भले ही पास न हो आपके मगर हैं आस पास ही। इसलिए तो कठिनाइयों में भी आप आज भी संभल जाते हैं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. खुश और स्वस्थ रहें !
      आशीर्वाद!

      Delete
  15. आप सब का दिल से आभार प्रकट करता हूँ .....
    शुभकामनाएँ आप सब को !

    ReplyDelete
  16. भावपूर्ण अभिव्यक्ति!
    नानी जी को नमन!
    सादर!

    ReplyDelete
  17. बेहद खूबसूरत हैं ये यादों का सफर ......

    ReplyDelete
  18. नानी की याद .... सच है जब मन का दर्द गहन हो जाता है तो वही याद आता है जो सबसे ज्यादा प्यार करता है .... चित्र के साथ रचना भी बहुत खूबसूरत ...कोमल से एहसासों को सँजोये हुये ...

    ReplyDelete
  19. आपमें आज भी एक बच्चा जिन्दा है ...

    ReplyDelete
  20. यार चाचू, अपनी नानी को तो कभी देखा नही,
    पर आपने नानी का इतना सुन्दर,मार्मिक
    और हृदयस्पर्शी चित्रण किया है कि मन के
    कल्पना लोक में वात्सल्यमयी नानी की भव्य
    छवि का दर्शन कर निहाल हो गया हूँ.

    भगवान कृष्ण ने श्रीमद्भगवद्गीता में कहा है कि

    'न तो ऐसा ही है कि मैं किसी काल में नही था,तू नही था
    अथवा ये राजा लोग नही थे और न ऐसा ही है कि इससे
    आगे हम सब नही रहेंगें'

    अर्थात हम हमेशा ही रहने वाले हैं इस शरीर में नही तो किसी
    और शरीर में, बशर्ते हम अपनी चेतना और स्मरण को सदा
    जाग्रत रखें.

    आपने अपने मन मस्तिष्क में नानी जी का स्मरण किया
    तो वे वहाँ मौजूद ही हैं,साक्षात! चाहें तो आप उनसे बातें कर
    के देख लीजियेगा.

    जो लोग जीते जी अपनों का विस्मरण कर देते हैं उनके लिए
    तो उनके वे अपने जीते हुए भी मरों के समान ही हैं.

    भावमयी प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत आभार,यार चाचू.

    ReplyDelete
  21. sach jab man behad udas hota hai to apne sabse kareebi chahne waale ki sabke pahle yaad aati hain... bahut hi sundar marmsparshi rachna ke liye aabhar!

    ReplyDelete
  22. सही कहा आपने नानी तो माँ की माँ होती है
    जब माँ का कर्ज नहीं उतार सकते तो नानी का कहाँ से उतार सकते हैं
    सुंदर भावपूर्ण रचना .....

    ReplyDelete
  23. मन कों छूते हुवे शब्द ... निशब्द कर जाते हैं ...
    बुज़ुर्ग हमेशा साथ रहते हैं यादों में ...

    ReplyDelete
  24. ये कोई मेरी रचना नही ....ये मेरे दिल के एहसास हैं ...सच्चाई है !
    आप सब ने मेरे एहसास दिल से महसूस किए ......!
    बहुत-बहुत आभार !
    खुश और स्वस्थ रहें!

    ReplyDelete
  25. मार्मिक प्रस्तुति ,नानी की यादों में भीगी .

    ReplyDelete

मैं आपके दिए स्नेह का शुक्रगुज़ार हूँ !
आप सब खुश और स्वस्थ रहें ........

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...