Sunday, February 23, 2014

अब मर्ज़ी नही हमारी ... है अब.. वक्त की बारी !!!

अब मर्ज़ी नही हमारी ...
      है अब.. वक्त की बारी !!!
सुना करते थे, जीवन में
 इक दौर ऐसा, भी आता है
 अकेले, पड़े रहोगे कोने में
 झाँकने न कोई आता है...

अब इंतज़ार रहता है हरदम
 घर में किसी के आने का ,
 भूले-भटके ही सही...
 किसी के द्वारा हाल पूछे जाने का..

 जब दिल में दर्द होता है
 तो इक टीस सी उठती है
 चीख तो निकलती नही
 बस सांस सी घुटती है...

 आज सोच मेरी आँखों में
 आ जाती है नमी,
 किसी को अब महसूस
 होती नही मेरी कमी...

 माँ कहतें हैं जिसे काश!
 कि वो मेरी भी होती, 
 मैं भी गिरता आज बन
 किसी आँख का मोती...

 न रहे अब वो यार
 न किसी से यारी है
 कुछ को खा गया वक्त
 कुछ को खाने की तैयारी है...

 दिल के दर्द को.... जाने कौन 
 जिसने सहा.... बाकि सब मौन!!!

अशोक'अकेला'





24 comments:

  1. बेहद मर्मस्पर्शी......
    अपना ख़याल रखें.

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  2. बहुत ही उदासी लिए ... मन के गहरे विषाद को लिखा है ...
    आशा है आपका स्वस्थ ठीक होगा ... जीवन में कई दौर आते हैं और चले भी जाते हैं ... मन खुद ही अपने आप को सम्भाल लेता है ...

    ReplyDelete
  3. बढ़िया प्रस्तुति- -
    आभार आदरणीय-

    ReplyDelete
  4. सच ही अब मर्ज़ी हमारी नहीं ... बस चलने की तैयारी है .... बेहद भावपूर्ण रचना .. भाई जी नमस्कार

    ReplyDelete
  5. भैया .... क्या कहें .... दिल भर आया ...
    जिस दौर में अपनों की ज़रुरत सबसे ज्य़ादा
    होती है उसी दौर में क्यों सब अकेले रह जाते हैं .. :(

    कृपया आप अपना ध्यान रक्खें !
    खुश रहिये..स्वस्थ रहिये ...

    ~सादर

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (25-02-2014) को "मुझे जाने दो" (चर्चा मंच-1534) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. शास्त्री जी आपके स्नेह का आभार .

      Delete

  7. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन तीसरी पुण्यतिथि पर विशेष - अंकल पई 'अमर' है - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके स्नेह का आभारी हूँ ,.

      Delete
  8. जीवन सन्ध्या में अकेलापन... एक मर्मस्पर्शी रचना!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरे एहसासों में शामिल होने के लिए दिल से आभार .,.

      Delete
  9. अकेलापन का दुःख सबको क़भी न कबी झेलना पड़ता है ...दिल को छू गया !
    New post चुनाव चक्रम !
    New post शब्द और ईश्वर !!!

    ReplyDelete
  10. अकेलेपन का दर्द और जिंदगी कि हकीकत को बयां करती बेहद मर्मस्पर्शी रचना.....

    ReplyDelete
  11. आप सब का मेरे अहसासों को जुबाँ देने के लिए दिल से आभार .
    खुश रहें ..सलामत रहें ,स्वस्थ रहें ...

    ReplyDelete
  12. मर्मस्पर्शी सुंदर रचना।।

    ReplyDelete
  13. बेहद मर्मस्पर्शी रचना....अकेलेपन की व्यथा अपने-आप में कसक भरी होती है.... वक्त के साथ सब कुछ बदल जाता है... वक्त से दिन और रात, वक्त से कल और आज...वक्त की हर शय गुलाम, वक्त का हर शय पे राज

    ReplyDelete
  14. न रहे अब वो यार
    न किसी से यारी है
    कुछ को खा गया वक्त
    कुछ को खाने की तैयारी है

    जीवन अनुभव का विचारणीय तथ्य कविता का आश्रय पाकर और अधिक प्रभावी हो गया है।

    ReplyDelete
  15. बेहद मर्मस्पर्शी.... सुंदर रचना।।

    ReplyDelete
  16. अकेले पैन का संत्रास अब हर उम्र की सौगात है उम्रदराज़ लोगों का तो क्या कहिये।

    ReplyDelete
  17. दिल के दर्द को.... जाने कौन
    जिसने सहा.... बाकि सब मौन!!!

    कोमल भावों में पगी मर्मस्पर्शी रचना....

    ReplyDelete
  18. यथार्थ :

    समय करे नर क्या करे ,समय समय की बात

    किसी समय के दिन बड़े किसी समय की रात।

    सुन्दर कही है अशोकजी ने बात

    ReplyDelete

मैं आपके दिए स्नेह का शुक्रगुज़ार हूँ !
आप सब खुश और स्वस्थ रहें ........

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...