Friday, July 13, 2012

देखता हूँ ....अपने दिल के आइने में..!!!

सच! ही कहा है ...किसीने !!!

"अपने ही होतें हैं ,जो दिल पर वार करते हैं ...
वरना गै़रौं को क्या खबर  ...कि दिल किस बात पे दुखता है "



36 comments:

  1. बहुत सुंदर लिखा है ...
    सत्य कह रहे हैं आपके जज़्बात ...

    ReplyDelete
  2. दिल तो अपने ही दुखाते हैं क्यूंकि उनसे भावनात्मक रिश्ते होते हैं ..
    पर अच्छा है अपनाप को अकेला समझना .
    ...कमसेकम किसी से उम्मीद तो नहीं होती..!

    ReplyDelete
  3. बहुत भाव पूर्ण सुंदर प्रस्तुति,,,,अशोक जी, वाकई रचना बहुत पसंद आई

    RECENT POST...: राजनीति,तेरे रूप अनेक,...

    ReplyDelete
  4. वाह ... भावमय करते शब्‍द ... बेहतरीन प्रस्‍तुति ..आभार

    ReplyDelete
  5. वाह बहुत खूबसूरत शब्दों का समावेश ...सादर

    ReplyDelete
  6. वाह अशोक जी . रचना में जिंदगी का अनुभव झलक रहा है .

    ReplyDelete
  7. जिन्दगी से गहरे जुडी प्रस्तुति ।

    आभार ।।

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया प्रस्तुति!
    आपकी प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (14-07-2012) के चर्चा मंच पर लगाई गई है!
    चर्चा मंच सजा दिया, देख लीजिए आप।
    टिप्पणियों से किसी को, देना मत सन्ताप।।
    मित्रभाव से सभी को, देना सही सुझाव।
    शिष्ट आचरण से सदा, अंकित करना भाव।।

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर रचना...
    सादर।

    ReplyDelete
  10. बहुत गहरे भावमय करते शब्द
    बेहतरीन रचना...
    "अपने ही होतें हैं ,जो दिल पर वार करते हैं ...
    वरना गै़रौं को क्या खबर ...कि दिल किस बात पे दुखता है "
    वाह||| क्या बात कही है आपने...
    बहुत खूब:-)

    ReplyDelete
  11. Replies
    1. शिवम जी ,
      आभारी हूँ आपके स्नेह का !

      Delete
  12. "अपने ही होतें हैं ,जो दिल पर वार करते हैं ...
    वरना गै़रौं को क्या खबर ...कि दिल किस बात पे दुखता है " बहुत गहरी जज्बात ले सुन्दर गजल कह डाली.. अशोक जी ..आभार..

    ReplyDelete
  13. जमाने ने मारी ठोकर,सब कुछ दिया सिखाय
    आज अकेला आता नजर,कोई न साथ निभाय,,,,,,

    बहुत सुंदर प्रस्तुति,,,,

    RECENT POST...: राजनीति,तेरे रूप अनेक,...

    ReplyDelete
  14. बहुत खूब लिखा है आपने..

    ReplyDelete
  15. बेहद सुन्दर भाव लिए खुबसूरत रचना ,जो जिन्दगी को करीब से दिखाती है.


    मोहब्बत नामा
    मास्टर्स टेक टिप्स

    ReplyDelete
  16. "अपने ही होतें हैं ,जो दिल पर वार करते हैं ...
    वरना गै़रौं को क्या खबर ...कि दिल किस बात पे दुखता है "~~
    बहुत सही बात कही आपने !
    सादर!

    ReplyDelete
  17. सब अकेले हैं और सब साथ में है...
    गहरी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  18. भावों में अनंत सागर की गहराई है.

    ReplyDelete
  19. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति ...
    साभार !!

    ReplyDelete
  20. खूबसूरत भावपूर्ण प्रस्तुति,यार चाचू.
    दिल से निकली हुई,दिल को छूती हुई.

    गाना याद आ रहा है

    'सब कुछ सीखा हमने न सीखी होशियारी
    सच है दुनिया वालो कि हम हैं अनाड़ी'

    ReplyDelete
    Replies
    1. शायद आपके काम आजाये ये मेरा अनाड़ीपन:-)))
      शुभकामनाएँ!

      Delete
  21. भावों की प्रबलता अच्छी लगी। मेरे नए पोस्ट "अतीत से वर्तमान तक का सफर" पर आपका हार्दिक अभिनंदन है।

    ReplyDelete
  22. बधाई सुंदर रचना के लिए भाई जी ...

    ReplyDelete
  23. आज से आमिर भी है आपका फेन नंबर अठान्वें ,
    वक्त मिले तो जरुर आना ,स्वागत करता मेरा ''मोहब्बत नामा ''




    मोहब्बत नामा
    मास्टर्स टेक टिप्स

    ReplyDelete
  24. जब हम दिल के आईने में देखते हैं ...
    तो कुछ गलत हो ही नहीं सकता ...
    भावों का सुंदर संयोजन
    सादर !!

    ReplyDelete
  25. भावो का सैलाब उमड़ रहा है ... हर शेर गज़ब ढा रहा है ... लाजवाब ...

    ReplyDelete
  26. नेकी कर दरिया में ड़ाल.अच्छों को तू कर ले याद .

    ReplyDelete
  27. आप सब का बहुत-बहुत ....
    आभार !

    ReplyDelete

मैं आपके दिए स्नेह का शुक्रगुज़ार हूँ !
आप सब खुश और स्वस्थ रहें ........

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...