Saturday, July 01, 2017

यादें ,वो गर्मी की दोपहरी की ....

ताऊ रामपुरिया जी ....
ताऊ की पहल ...उजड़े चमन को बसाने में ...
मेरी शुभकामनाये ताऊ को इस चमन में नये,पुराने  
फूल खिलाने  में ....

बड़े दिनों के बाद ब्लॉग पर यादें आईं है, गर्मी में 
बीते हुए बचपन की दोपहरी की गर्मियों की....

आप सब से साझा कर बड़ी ख़ुशी महसूस कर रहा हूँ ....
बस,आप की नज़र चाहिए इस मेरी पोस्ट पर |

फिर कुछ अच्छा,नया सीखने को मिलेगा आप सब से ..
खुश रहें स्वस्थ रहें ..... 
अशोक सलूजा  

यादें ,वो गर्मी की दोपहरी की ....

आज याद आता है फिर यादों में वो गुज़रा प्यारा सा बचपन
वो झुलसती गर्मी, दोपहरी में खिलखिलाता न्यारा सा बचपन

नीम की ठंडी छांव में, पड़ी चारपाई पर, वो बेसुध सा पड़ना 
रुके ग़र हवा, निर्जीव हाथों से, वो हाथ की पंखी का झलना

दिन भर धूल भरी आँधियों का, वो जोर से शांय शायं चलना 
मारना मुहं पे, गर्म हवाओं का  थप्पड़, और अदा से मचलना  

निकर बनियान में, सुने पड़े बाज़ार में, वो मेरा भागते जाना
ठन्डे पानी की चाह में, आने दो आने की, बर्फ का वो लाना

वो तपती तारकोल की सड़को पे, मेरा भागना और चलना 
बर्फ़ से नंगे हाथ का ठिठुरना, नंगे पाँव से पैरों का जलना

वो दौड़ लगाना तेजी से और उधर तेजी से बर्फ का गलना    
था कितना सुहाना वो दोपहरी का, उमस भरी शाम में ढलना
--अशोक'अकेला'
#हिंदी_ब्लागिँग

बचपन और बुढ़ापा 












28 comments:

  1. अब जो लौटे हैं सब, मिलजुलकर साथ रहना ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी..अब जायेंगे कहाँ ...इसके सिवा ..शुभकमनाएं जी

      Delete
  2. निकर बनियान में, सुने पड़े बाज़ार में, वो मेरा भागते जाना
    ठन्डे पानी की चाह में, आने दो आने की, बर्फ का वो लाना
    बहुत ही लाजवाब रचना.
    #हिंदी_ब्लागिँग में नया जोश भरने के लिये आपका सादर आभार
    रामराम
    ०२५

    ReplyDelete
    Replies
    1. ये सब ताऊ जी की मेहनत का प्रताप है जी ....स्वस्थ रहें जी

      Delete
  3. बचपन की नटखट यादे ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी ...बचपन की हैं न इसीलिए.शुभकामनायें आप को भी जी ...

      Delete
  4. अन्तर्राष्ट्रीय ब्लोगर्स डे की शुभकामनायें ..... हिन्दी ब्लॉग दिवस का हैशटैग है #हिन्दी_ब्लॉगिंग .... पोस्ट लिखें या टिपण्णी , टैग अवश्य करें ......

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप को भी शुभकामनायें जी ....

      Delete
  5. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (02-07-2016) को "ब्लॉगिंग से नाता जोड़ो" (चर्चा अंक-2653) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप के स्नेह का आभार शास्त्री जी .

      Delete
  6. सच में सही कहा लेकिन हम तो कहेंगे
    ताऊ के डंडे ने कमाल कर दिया
    ब्लोगर्स को बुला कमाल कर दिया

    #हिंदी_ब्लोगिंग जिंदाबाद
    यात्रा कहीं से शुरू हो वापसी घर पर ही होती है :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी...वंदना जी ....सुबह का भूला ...शाम को घर ,,शुभकामनाये हम सब को ....

      Delete
  7. वे भी क्या दिन थे

    ReplyDelete
    Replies
    1. पलट आये वो दिन जी ....शुभकामनायें .

      Delete
  8. बहुत खूब ,
    हिन्दी ब्लॉगिंग में आपका लेखन अपने चिन्ह छोड़ने में कामयाब है , आप लिख रहे हैं क्योंकि आपके पास भावनाएं और मजबूत अभिव्यक्ति है , इस आत्म अभिव्यक्ति से जो संतुष्टि मिलेगी वह सैकड़ों तालियों से अधिक होगी !
    मानते हैं न ?
    मंगलकामनाएं आपको !
    #हिन्दी_ब्लॉगिंग

    ReplyDelete
    Replies
    1. सतीश भाई जी ....ये सब आप का प्यार और स्नेह है .खुश रहें और स्वस्थ रहें .

      Delete
  9. हर किसी के हिस्से कुछ मीठी सी यादें आती है
    ये यादें ही होती है जो बिन हवा बहा ले जाती है

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी अर्चना जी ..ठीक कह रहीं हैं आप ....शुभकामनायें |

      Delete
  10. Replies
    1. बिसरी स्मृतियाँ याद करने से सुकून मिलता है ....आभार मोनिका जी .
      स्वस्थ रहें .

      Delete
  11. जय जय...आनन्द की यादें में मैंने ये बर्फ वाली बात खूब लिखी है। :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया जी ...स्नेह के लिए

      Delete
  12. जय हिंद...जय #हिन्दी_ब्लॉगिंग...

    ReplyDelete
    Replies
    1. जय हिन्द खुशदीप जी ....

      Delete
  13. वाह आज तो बचपन की गलियों में घुमा दिया भाई जी । बहुत सुंदर

    ReplyDelete
    Replies
    1. कोई मेरे दिल से पूछे ...बिछुड़ कर ..अपनों से मिलना कैसा लगता है
      खुश और स्वस्थ रहो संगीता बहना जी :) (y)

      Delete
  14. ....लाज़वाब पंक्तियाँ और भावों की बहुत प्रभावी अभिव्यक्ति..
    ब्लोगर्स डे की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  15. बचपन की अनमोल यादें कभी दिल से नहीं जाती ... आपका अनुभव एक दर्शन है जीवन का ...

    ReplyDelete

मैं आपके दिए स्नेह का शुक्रगुज़ार हूँ !
आप सब खुश और स्वस्थ रहें ........

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...