Friday, July 20, 2012

यादेँ....जो भूलती नही !!!

झाँकने दिल का कोना गया था, कि तुम कहाँ हो,
मिला न खाली कोना,जिधर देखूं ,तुम वहाँ हो....
---अकेला

ये रातों के साये मुझ को सोने नही देते 
ये दिन के उजाले मुझ को रोने नही देते 

लाख कोशिश करता हूँ ,उनको भूल जाने की 
वो मगर मुझ को कभी कामयाब होने नही देते 

याद करता हूँ उनकी बेवफाई के किस्से को मैं 
मगर इसका वो अहसास कभी मुझे होने नही देते 

रख के माथे पे हाथ , कुछ सोचता रहता हूँ मैं 
कोई भी किस्सा वो मुझे  याद होने नही देते 

सिलवटें पड़ गई ,माथे पे मेरे ये सोच-सोच कर 
पर इस सोच को वो कभी कम होने नही देते ||

थक हार के जाना चाहता हूँ नींद की आगोश में मैं 
पर वो 'अकेला' किसी की आगोश में सोने नही देते ||

अशोक"अकेला"




32 comments:

  1. बंदिशें है हजारों,
    किसे मैं पुकारूँ,
    चलो फिर से,
    अपने से बतिया लें।

    ReplyDelete
    Replies
    1. ठीक समझ रहें हैं आप ....
      इसी लिए तो यादों को याद करता हूँ !

      Delete
  2. कुछ अहसास, कुछ यादें भुलाए नहीं भूलते .....
    काफी सुंदर ...
    सादर !!

    ReplyDelete
  3. सादर प्रणाम ।
    सुन्दर रचना पर यह कुंडली ।

    सिलवट पर पिसता रहा, याद वाद रस प्रेम ।
    ऐ लोढ़े तू रूठ के, भाँड़ रहा है गेम ।

    भाँड़ रहा है गेम, नेम शाश्वत अब टूटे ।
    वासर ज्यूँ अखरोट, नहीं तेरे बिन फूटे ।

    पाता था नित चैन, लुढ़क जो बदले करवट ।
    बिन तेरे दिन रैन, तड़पता रहता सिलवट ।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह! कवि रविकर जी वाह!
      आभार

      Delete
  4. सिलवटें पड़ गई ,माथे पे मेरे ये सोच-सोच कर
    पर इस सोच को वो कभी कम होने नही देते ||

    हर लम्हा यादों में ही बीत जाता है ...खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  5. सिलवटें पड़ गई ,माथे पे मेरे ये सोच-सोच कर
    पर इस सोच को वो कभी कम होने नही देते ||... बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  6. झाँकने दिल का कोना गया था, कि तुम कहाँ हो,
    मिला न खाली कोना,जिधर देखूं ,तुम वहाँ हो....
    वाह ... बेहतरीन भाव ...आभार

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर .....
    यादों का हर किस्सा अजीब है.....

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  8. वाह ! बहुत खूब !
    सुहानी चांदनी रातें याद आ गई भाई जी .

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर
    प्यारे से अहसास लिए
    बेहतरीन रचना:-)

    ReplyDelete
  10. हर लह्मा यादों के आगोश में ठहर जाता है..

    ReplyDelete
  11. सिलवटें पड़ गई ,माथे पे मेरे ये सोच-सोच कर
    पर इस सोच को वो कभी कम होने नही देते ||

    Bahut Umda Panktiyan....

    ReplyDelete
  12. बहुत ही गहरे और सुन्दर भावो को रचना में सजाया है आपने.....

    ReplyDelete
  13. थक हार के जाना चाहता हूँ नींद की आगोश में मैं
    पर वो 'अकेला' किसी की आगोश में सोने नही देते,,,,,

    बेहतरीन प्रस्तुति,,,,
    बहुत सुंदर रचना,,,,,,

    RECENT POST ...: आई देश में आंधियाँ....

    ReplyDelete
  14. अशोक अंकल को समर्पित .............

    इस उम्र में भी ''अकेला'' इतनी गहराई से लिखता रहा ,
    गजल का हर एक लफ्ज़ हमारे दिल को बस छूता रहा.
    उम्र के किसी हिस्से में मै शायद उनको भूल सकूं ,
    तनहा और ''अकेला '' मै उम्र भर लिखता रहा.

    मोहब्बत नामा
    मास्टर्स टेक टिप्स

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत शुक्रिया आमिर भाई जी ......

      Delete
  15. हर्फ़-दर-हर्फ़ बेहद खुबसूरत ... लाजवाब ..

    ReplyDelete
  16. तुम्हारे प्यार की बातें हमें सोने नहीं देती ,

    ReplyDelete
  17. बेहतरीन प्रस्तुति सुंदर रचना

    ReplyDelete
  18. लाख कोशिश करता हूँ ,उनको भूल जाने की
    वो मगर मुझ को कभी कामयाब होने नही देते ..

    बस यही नहीं पता होता की वो कामयाब नहीं होने देते या मन होना ही नहीं चाहता ... गिरफ्त में रहना चाहता है उन यादों के ... फिर उम्र भर ही क्यों न हो ... आशा है आप ठीक होंगे ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप सब के प्यार का सहारा है ..दोस्तों !
      में ठीक हूँ ....
      आभार !

      Delete
  19. सिलवटें पड़ गई ,माथे पे मेरे ये सोच-सोच कर
    पर इस सोच को वो कभी कम होने नही देते ||
    बस यही ज़िन्दगी है। बहुत सुन्दर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार निर्मला जी .....
      उम्मीद करता हूँ ,आप की सेहत
      अब ठीक होगी ...
      शुभकामनाएँ!

      Delete
  20. जीवन की सबसे कीमती निधि से भरपूर कविता।

    ............
    International Bloggers Conference!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत शुक्रिया !
      खुश रहें!

      Delete
  21. सिलवटें पड़ गई ,माथे पे मेरे ये सोच-सोच कर
    पर इस सोच को वो कभी कम होने नही देते ||
    लाजवाब रचना...
    सादर।

    ReplyDelete
  22. दिल कि बातेँ निकलतेँ हैँ इन शब्दोँ के माध्यम से

    ReplyDelete

मैं आपके दिए स्नेह का शुक्रगुज़ार हूँ !
आप सब खुश और स्वस्थ रहें ........

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...