Monday, November 05, 2012

उम्मीदों के चिराग़....!!!


यह  रचना मेरे द्वारा  पिछली दीवाली पर रची गई थी| 
जो मैंने सुबीर जी के रचे दीवाली मुशायरे पर भेजी थी |
पर मेरा भाग्य या दुर्भाग्य  यह रचना दीवाली बीत जाने पर ,
एक और नौजवान शायर के साथ ' बासी दीवाली मनाते है "के
मौके पर सुबीर संवाद सेवा के मंच पर सुबीर जी ने प्रकाशित 
की थी.... 
आज भाग्य से इस रचना को मैं दीवाली से थोडा पहले ही आपके 
समक्ष प्रस्तुत करके ....आपको  दीवाली की शुभकामनाएँ देना 
और अपने लिए आपसे स्नेह प्राप्त कर लेना चाहता हूँ ......
तो प्रस्तुत है ,आप सब के लिए यह मेरी  रचना...अग्रिम  दीवाली मुबारक 
और आशीर्वाद के रूप में !!!



उम्मीदों के चिराग़

दीप खुशियों के जल, उठे हर सू
इक लहर सी है अब, उठे हर सू

हर तरफ हैं, बाजारों में मेले 
फूल खुशियों के, खिले हर सू
दुःख सभी का मिटेगा, सोच के ये 
सब गले आज मिल, रहे हर सू 

आँख से आंसू, मैंने पोंछ दिए 
फूल ही फूल जब, दिखे हर सू

दीप जलते हैं, ज्यों दीवाली  में 
दिल में अब रौशनी, भरे हर सू 

जी लिया है, बहुत अंधेरों में 
रौशनी की नदी, बहे हर सू 

जिंदगी जब हो, झूम के गाती 
चुप "अकेला"  ये क्यों, फिरे हर सू || 
अशोक'अकेला'


( सुबीर जी ने इसे अपने आशीर्वाद से सवांरा )

43 comments:

  1. दीप जलते हैं, ज्यों दीवाली में
    दिल में अब रौशनी, भरे हर सू

    यही दुआ है..... सुंदर पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  2. उम्मीदों का जल रहा, देखो सतत चिराग |
    घृत डालो नित प्रेम का, बनी रहे लौ-आग |
    बनी रहे लौ-आग, दिवाली चलो मना ले |
    अपना अपना दीप, स्वयं अंतस में बालें |
    भाई चारा बढे, भरोसा प्रेम सभी दो |
    सुख शान्ति-सौहार्द, बढ़ो हरदम उम्मीदों ||

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर पंक्तियाँ..

    ReplyDelete
  4. उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक कुछ कहना है पर है ।।

    ReplyDelete
  5. आँख से आंसू, मैंने पोंछ दिए
    फूल ही फूल जब, दिखे हर सू

    बहुत ही सुन्दर अशोक भाई.सबसे पहले हमारी तरफ से ही मुबारक बाद कबूल फरमा लीजिये.आप इसी तरह कलम का हक़ अदा करते रहें.विवादों से बचकर साफ़ सुथरा लिखते रहें ,यही तमन्ना है हमारी.

    यूँ तो कहने को अकेला रहा आमिर हर दम ,
    मगर इन चाहने वालों ने ना तन्हा छोड़ा.

    मोहब्बत नामा
    मास्टर्स टेक टिप्स
    इंडियन ब्लोगर्स वर्ल्ड

    ReplyDelete
  6. दीप जलते हैं, ज्यों दीवाली में
    दिल में अब रौशनी, भरे हर सू

    जी लिया है, बहुत अंधेरों में
    रौशनी की नदी, बहे हर सू
    बहुत ही बढिया ...
    शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  7. दीप जलते हैं, ज्यों दीवाली में
    दिल में अब रौशनी, भरे हर सू ,,,,,

    प्रेरक बेहतरीन रचना ,,,,
    RECENT POST : समय की पुकार है,

    ReplyDelete
  8. जी लिया है, बहुत अंधेरों में
    रौशनी की नदी, बहे हर सू ...आमीन
    दीवाली की सादर शुभकामनायें

    ReplyDelete


  9. बहुत अद्भुत अहसास...सुन्दर प्रस्तुति .

    ReplyDelete
  10. सुन्दर रचना..
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ:-)

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया , आशावादी रचना .
    दिवाली की अग्रिम अनंत शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  12. बहुत प्यारी शुभकामनाएँ....
    आपका बहुत शुक्रिया अशोक जी..
    आपको भी दीपावली की ढेर सारी शुभकामनाएँ....

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  13. आपको भी दीपावली की अग्रिम बधाइयाँ और मंगलकामनाएँ !
    सादर !

    भुने काजू की प्लेट, विस्की का गिलास, विधायक निवास, रामराज - ब्लॉग बुलेटिन आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  14. उम्मीदों का दिया यूं ही जीवन में रोशनी करता रहे ... दीपावली की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  15. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगल वार 6/11/12 को चर्चाकारा राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका स्वागत है ।

    ReplyDelete
  16. आमीन ,
    आपको दीपावली की ढेरों शुभकामनायें |

    सादर

    ReplyDelete
  17. दीप जलते हैं, ज्यों दीवाली में
    दिल में अब रौशनी, भरे हर सू ....बहुत सुन्दर..आप को भी दीपावली की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  18. दीप जलते हैं, ज्यों दीवाली में
    दिल में अब रौशनी, भरे हर सू ......aamin...

    ReplyDelete
  19. मन के भावो को खुबसूरत शब्द दिए है अपने.....आपको भी दीपावली की बहुत शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  20. बहुत सुंदर पंक्तियाँ !
    "आपको भी दीपावली की शुभकामनाएँ...!" :)
    ~सादर !

    ReplyDelete

  21. जिंदगी जब हो, झूम के गाती


    चुप "अकेला" ये क्यों, फिरे हर सू ||


    गुनगुनाए अकेला बारहा हर सू ,


    हर सिम्त से सदा आए दिवाली मुबारक हर सू .


    प्यार "आपके "बिना ज़िन्दगी कैसे चले हर सू .

    ReplyDelete
  22. दीपावली की शुभकामनाएँ,,,
    बहुत बढ़िया उम्दा प्रस्तुति,,,,,

    RECENT POST:..........सागर

    ReplyDelete
  23. दुःख सभी का मिटेगा, सोच के ये
    सब गले आज मिल, रहे हर सू
    इस दीवाली ये हो जाये तो कहने ही क्या.बहुत सुन्दर प्रस्तुति .haapy deepawali to you sir.

    ReplyDelete
  24. जी लिया है, बहुत अंधेरों में
    रौशनी की नदी, बहे हर सू

    जिंदगी जब हो, झूम के गाती
    चुप "अकेला" ये क्यों, फिरे हर सू ||

    इतनी रोशनी इतने मेलों ठेलों में अकेले ना घूमिये । ढूढिये तो दोस्त मिलेंगे हर सू ।

    ReplyDelete
  25. अशोक भाई आप अपने ब्लॉग के बारे में सब कुछ लिख कर मुझे ईमेल कर दें.जल्द ही इंडियन ब्लोगर्स वर्ल्ड पर आपकी ब्लॉग का परिचय पोस्ट लेकर हाजिर होऊंगा.फिलहाल मै आपके ब्लॉग के बारे में ज्यादा नही जानता इसलिए पोस्ट नही लिख पा रहा हूँ.अपने ब्लॉग के बारे में कैसे लिखना है ये आप इंडियन ब्लोगर्स वर्ल्ड के किसी भी ब्लॉग परिचय की पोस्ट को पढ़ कर देख लें.मुझे आपके ब्लॉग परिचय का इन्तजार रहेगा.


    इंडियन ब्लोगर्स वर्ल्ड

    ReplyDelete
    Replies
    1. आमिर भाई !
      मेरे पास सिखाने को कुछ नही .मैं तो ख़ुद आप जैसे युवाओं ,नौजवान
      पीढ़ी से सीख रहा हूँ ....ये ब्लॉगर परिचय का हक़ भी उन्ही का बनता है !
      जो प्यार,स्नेह मान-सम्मान आपने दिया ,मेरे लिए बस इतना ही बहुत
      है !
      बहुत-बहुत शुक्रिया !

      Delete
  26. बहुत खूब ...दिवाली की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  27. एक एक शब्द जैसे मन की तह तक जाता है

    ReplyDelete
  28. जी लिया है, बहुत अंधेरों में
    रौशनी की नदी, बहे हर सू

    जिंदगी जब हो, झूम के गाती
    चुप "अकेला" ये क्यों, फिरे हर सू ||

    बाऊ जी,

    नमस्ते
    दिवाली की शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  29. क्या बात है .....!!!

    आपकी लेखनी दिन पर दिन संवरती जा रही है .....

    बधाई ...!!

    ReplyDelete
  30. जी लिया है, बहुत अंधेरों में
    रौशनी की नदी, बहे हर सू

    जिंदगी जब हो, झूम के गाती
    चुप "अकेला" ये क्यों, फिरे हर सू ||
    वाह एक सकारात्मक सोच की नदिया प्रवाहित होती रचना बहुत खूबसूरत ,आपको सपरिवार दिवाली की सहस्त्रों शुभ कामनाएं

    ReplyDelete

  31. आँख से आंसू, मैंने पोंछ दिए
    फूल ही फूल जब, दिखे हर सू

    प्यार (यार )आपके बिना ज़िन्दगी चले कैसे हर सू ,

    दिवाली मुबारक आपको हर सू

    वीरू भाई

    ReplyDelete
  32. सौहाद्र का है पर्व दिवाली ,

    मिलजुल के मनाये दिवाली ,

    कोई घर रहे न रौशनी से खाली .

    हैपी दिवाली हैपी दिवाली .

    शुक्रिया आपका भाईसाहब .

    वीरू भाई .

    ReplyDelete
  33. दीपावली की अनंत शुभकामनाएँ!!

    ReplyDelete



  34. ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ
    ♥~*~दीपावली की मंगलकामनाएं !~*~♥
    ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ
    सरस्वती आशीष दें , गणपति दें वरदान
    लक्ष्मी बरसाएं कृपा, मिले स्नेह सम्मान

    **♥**♥**♥**● राजेन्द्र स्वर्णकार● **♥**♥**♥**
    ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ

    ReplyDelete
  35. उत्तम विचारों वाली रचना दिल में उतर गई
    आपको भी दीपावली की ढेरों शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  36. जी लिया है, बहुत अंधेरों में
    रौशनी की नदी, बहे हर सू ...सुन्दर !
    दीवाली की सादर शुभकामनायें

    ReplyDelete
  37. ***********************************************
    धन वैभव दें लक्ष्मी , सरस्वती दें ज्ञान ।
    गणपति जी संकट हरें,मिले नेह सम्मान ।।
    ***********************************************
    दीपावली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं
    ***********************************************
    अरुण कुमार निगम एवं निगम परिवार
    ***********************************************

    ReplyDelete

मैं आपके दिए स्नेह का शुक्रगुज़ार हूँ !
आप सब खुश और स्वस्थ रहें ........

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...