Thursday, January 24, 2013

क्या "दामिनी" का क़र्ज़ चुकाओगे ...???

अपने साधारण और सिमित शब्द ज्ञान से .....
विन्रम श्रद्धांजलि !!!
क्या "दामिनी" का क़र्ज़ चुकाओगे ...???
 मैं कौन थी ,सपना थी या कामिनी
 नाम रख दिया आपने मेरा दामिनी
 दरिंदों ने किया मेरी अस्मत पे वार
 कर के रख दिया दामन तार-तार

 सदियों से लुटती रही, हूँ मैं बार-बार
 देख कर तुमे ,कर लेती थी मैं एतबार
 क्या अब भी गफ़लत में सोते रहोगे
 नारी लुटती रहेगी और तुम रोते रहोगे

 क्यों करते हो रक्षा का वादा बार-बार
 क्यों मनाते हो रक्षा बंधन  का त्यौहार
 अब तो उठो,जागो, कुछ कर के दिखा दो
 मुझको मिटाने वालों दरिंदों की हस्ती मिटा दो

 माँ के दूध का वास्ता है ,अब तुम को
 अब मेरे बलिदान का ये कर्ज़ चुका दो
 नारी जाति को कलंकित करने वालों को
 अब उन का जड़ से तुम नाश मिटा दो

 क़र्ज़ चुकाओगे न जब तक ,न मैं
 तुम को कभी भी माफ़ कर पाउंगी
 मेरे बगैर नर जाति का वजूद क्या ,
 ग़र जो कभी मैं वापस न आउंगी .......

अशोक सलूजा 'अकेला'

28 comments:

  1. बढ़िया आह्वान करती रचना सलूजा साहब ! मगर अफ़सोस कि इस देश में कुछ कथर हो पाने के आसार न के बराबर है !

    ReplyDelete
  2. आँखे है नम,दिल में है उम्मीद और आस अब भी बाकि है ||

    ReplyDelete
  3. बेहद भावभीनी कविता .. गंभीर प्रश्न उठाती .. काश हमें समझ में आये..

    ReplyDelete
  4. दिलको को झक झोर देने वाली बात कही आपने ,पर उन बेदिलों के पास दिल हों तब न ?-खुबसूरत अभिव्यक्ति
    New post कृष्ण तुम मोडर्न बन जाओ !

    ReplyDelete
  5. मन को भिगो गयी हर पंक्ति....
    दिल का दर्द कम होता नहीं...

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  6. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  7. दिल को झकझोरती खुबसूरत अभिव्यक्ति ,,,,

    recent post: गुलामी का असर,,,

    ReplyDelete
  8. कलंकित अध्याय, काश इसे न भूलें ...

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर भावपूर्ण कविता, जब तक आप जैसे लोग हैं दामिनी के लिए आशा अभी बची हुई है। आभार

    ReplyDelete
  10. चेतना को जागना ही होगा।
    सार्थक आह्वान।

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर भावपूर्ण कविता,

    ReplyDelete
  12. शुक्रिया भाई साहब आपकी टिपण्णी का .

    आपकी रचना में हर भाई को ललकारा गया है .मौलिक सवाल भी उठाया गया .औरत से ही कायनात का सब कार्य व्यापार चले है वह न हो तो ?

    ReplyDelete
  13. मार्मिक...मन को छूते भाव

    ReplyDelete
  14. कर्ज तो चढ़ा है, चुकाना ही होगा..

    ReplyDelete
  15. बहुत ही भावभीनी मार्मिक प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  16. आपका आवाह्न सही है यदि हम अभी भी ढीले पड़े तो यह सरकार कुछ करने वाली नहीं.

    आप सभी को गणतंत्र दिवस पर बधाइयाँ और शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  17. पहचान बनाना आरम्भ किया था ............. तुमने सब खत्म कर दिया

    ReplyDelete
  18. भावभीनी मार्मिक गंभीर कविता ..

    ReplyDelete
  19. सही कहा लेकिन दामिन का कर्ज ये भष्ट्र तंत्र लगता नही चुका पायेँगी

    ReplyDelete
  20. सही कहा लेकिन दामिन का कर्ज ये भष्ट्र तंत्र लगता नही चुका पायेँगी

    ReplyDelete
  21. क़र्ज़ चुकाओगे न जब तक ,न मैं
    तुम को कभी भी माफ़ कर पाउंगी
    मेरे बगैर नर जाति का वजूद क्या ,
    ग़र जो कभी मैं वापस न आउंगी .......

    उसके गुनहगारों को जब तक सजा नहीं मिलेगी तब तक उसकी आत्मा को चैन नहीं मिलेगा. उसका बलिदान व्यर्थ नहीं जाना चाहिए....

    ReplyDelete
  22. दामिनी पर बहुत सी कवितायेँ पढ़ी पर इतने दिल से लिखी कोई न मिली .....

    शुक्रिया ....

    ReplyDelete
  23. सुन्दर रचना
    http://voice-brijesh.blogspot.com

    ReplyDelete
  24. सदियों से लुटती रही, हूँ मैं बार-बार
    देख कर तुमे ,कर लेती थी मैं एतबार
    क्या अब भी गफ़लत में सोते रहोगे
    नारी लुटती रहेगी और तुम रोते रहोगे ..

    प्रश्न मौन कर जाता है बार बार ... जवाब देते नहीं बनता ...
    कब तक होगा अपने देश में ये सब ... संवेदनशील रचना ...

    ReplyDelete
  25. अक्षरश: मन को छूती हुई प्रस्‍तुति ...
    आभार

    ReplyDelete

मैं आपके दिए स्नेह का शुक्रगुज़ार हूँ !
आप सब खुश और स्वस्थ रहें ........

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...