Thursday, May 23, 2013

मुझे तो बीती यादों से दिल बहलाना है .... !!!


आजकल अपने वतन से दूर ....और अपनी छोटी बेटी के 
बहुत पास टोरंटो (केनाडा) में श्रीमती जी के साथ ,और अपनी 
दोनों नातिन के संग समय बहुत अच्छा कट रहा है ........!!!
पर फिर भी बाकी समय तो ........|


मुझे तो बीती यादों से दिल बहलाना है .... !!! 

खुशीयों से नही अदावत मेरी
 बस ग़मों से रिश्ता पुराना है

 आज मुस्कराहट है मेरे चेहरे  पर
 कि आज फिर मौसम सुहाना है

 उदास हो जाता हूँ ,जब कभी
 याद आता वो वक्त पुराना है

 जब भी याद आ जाते हैं वो
 याद आता वो गुज़रा जमाना है

 अब कुछ भी रहा मेरे पास नही
 बस बीती यादों का वो खज़ाना है

 हिम्मत नही किसी से कुछ कहने की
 देख-सुन कर अब सिर्फ मुस्कराना है

 भले नश्तर चुबोयें वो मेरे दिल को आज
 मुझे तो बीती यादों से दिल बहलाना है ....
आप सब बहुत खुश और स्वस्थ रहें |
शुभकामनायें!
अशोक सलूजा 


44 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज बृहस्पतिवार (22-05-2013) के झुलस रही धरा ( चर्चा - १२५३ ) में मयंक का कोना पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार शास्त्री जी .....

      Delete
  2. हृदयस्पर्शी भाव ...!!बहुत सुन्दर ....!!

    ReplyDelete
  3. आपने लिखा....हमने पढ़ा
    और भी पढ़ें;
    इसलिए आज 23/05/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक है http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर (यशोदा अग्रवाल जी की प्रस्तुति में)
    आप भी देख लीजिए एक नज़र ....
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत शुक्रिया यशवन्त जी ....

      Delete
  4. यात्रा और प्रवास की ढेरों शुभकामनायें।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार प्रवीण जी ...

      Delete
  5. बघुत ही सुन्दर भावमयी रचना,आभार आदरणीय.प्रवास आपका सुखमय हो.

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया राजेन्द्र जी .....
      खुश रहें!

      Delete
  6. Replies
    1. बहुत-बहुत शुक्रिया गोदियाल भाई जी ...

      swasth rahen ..

      Delete
  7. भावमय करते शब्‍द एवं प्रस्‍तुति ...
    सादर

    ReplyDelete
  8. जय हो!!! बहुत ही भावुक कर देने वाली रचना | आभार

    ReplyDelete
  9. सर हमारी टिप्पणी शायद स्पैम में चली गयी है...

    ReplyDelete
    Replies
    1. अनीता जी .टिप्पणी की शिकायत आपके सामने है ...स्पैम में अभी तो कहें कुछ नही .,,आपके शब्दों में आप की शुभकामनायें मुझे मिल गई है ...
      आभार !

      Delete
  10. आज मुस्कराहट है मेरे चेहरे पर
    कि आज फिर मौसम सुहाना है...बहुत सुंदर गजल..;

    ReplyDelete
  11. आज मुस्कराहट है मेरे चेहरे पर
    कि आज फिर मौसम सुहाना है ..

    आप हमेशा ही ऐसे मुस्कुराते रहें ... खुश रहें ... जिंदगी भरपूर जियें ...
    साआनंद रहें ... शुभकामनाओं सहित ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिगम्बर जी ..आपके स्नेह और शुभकामनाओं का मैं दिल से आभारी हूँ .
      खुश और स्वस्थ रहें !

      Delete
  12. क्या बात है, बहुत सुंदर
    यूं ही चेहरे की मुस्कुराहट बनी रहे।


    मेरे TV स्टेशन ब्लाग पर देखें । मीडिया : सरकार के खिलाफ हल्ला बोल !
    http://tvstationlive.blogspot.in/2013/05/blog-post_22.html?showComment=1369302547005#c4231955265852032842

    ReplyDelete
  13. बच्चों के साथ सुखमय समय बिताएं....

    सुन्दर रचना के लिए बधाई...
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  14. बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  15. वाह वाह जी। सी एन टावर की ऊंचाई को देखिये , साथ में लेक की गहराई को , फिर नायग्रा जाकर ऊँचाई और गहराई दोनों देखिये, आनंद आ जायेगा।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जरुर डाक्टर साहब जी ..बहुत शुक्रिया आपका !

      Delete
  16. सुन्दर रचना..बच्चों के साथ से बढ़ कर और क्या हो सकता है ?..्शुभकामनाएं हमेशा खुश रहिए..

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार आपका जी .,,,,,,,,

      Delete
  17. आपका प्रवास आनंद दायी रहे. यादें किसका पीछा छोडती हैं? बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
    Replies
    1. ताऊ भाई जी .....शुभकामनाओं के लिए शुक्रिया ....
      बस ऐसे ही खुशियाँ बांटते रहें !

      Delete
  18. यात्रा का आपका आनन्द अधिकाधिक आनन्दमयी हो । मंगलकामनाएँ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत शुक्रिया बाकलीवाल जी .....

      Delete
  19. सच में यादें जिन्दगी को कितना सुहाना बना देती है
    सादर आभार!

    ReplyDelete

  20. सोच वही ,संस्कार वही ,
    वही मानसिकता लिए चले लाए
    इस नई डाल पर,
    लादे अपनी राम-कथा गठरी .
    *
    कब तक धरें सेंतें ,
    रात से पहले मिल बैठें
    खोल कर चीज-बस्त बाँट लें.
    हल्के हो जाएँ
    यों ही हँस-बोल कर!!

    ReplyDelete
  21. Replies
    1. आभार श्रीमान जी .....

      Delete
  22. खुशीयों से नही अदावत मेरी
    बस ग़मों से रिश्ता पुराना है

    पुराने रिश्ते टूटते नहीं फिर भी नए मौसम में खुशियाँ मिलें और आप भी खुशियाँ बांटें ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार आपका जी ...
      स्वस्थ रहें!

      Delete
  23. खूबसूरत यादों के साथ ...आप भी हमेशा खुश रहें

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार अंजू जी .......
      खुश रहें!

      Delete
  24. बिटिया के पास पंहुचने कि बधाई स्वीकारें और आनंद लें भाई जी !
    मंगल कामनाएं !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार भाई जी ....
      शुभकामनायें!

      Delete
  25. यह प्रवास बहुत आनन्ददाई रहे. बच्चों के साथ तो समय कब कट जाता है पता ही नहीं चलता.

    ReplyDelete
  26. आप का बहुत-बहुत आभार रचना जी ...ठीक कह रही हैं आप !
    स्वस्थ रहें!

    ReplyDelete
  27. ooooooo to aap beti ke paas hain wah! veerji! aapke paas net hai. blog writing ka kaam hai aur dekh saare gano ka khajana hai ...............hmare liye ye sb hain.....hmari ek duniya hai yh.
    apne swath'y ka dhyan rkhiyega. abhi kahaan hain aap?? aaj aapki kvitayen bhi pdhi aur articles bhi. dekh lijiye aap kahaan hain maine pta lga hi liya ha ha ha aisiiich hun main to :)

    ReplyDelete
  28. बीती यादों से दामन अब हमको छुड़ाना है ,

    हिसाब किताब चुकता ,बेशक पुराना है ,

    वापस अब कुछ नहीं आना है ,

    काहे भूत से चिपकना ,वर्तमान में आना है ,

    चलो वापस अब परम धाम जाना है .

    बाँध लो बिस्तर कभी भी चले जाना है .

    ॐ शान्ति

    ४ ३ ३ ० ९ ,सिल्वरवुड ड्राइव ,

    कैंटन (मिशिगन ) ४ ८ १ ८ ८

    ७ ३ ४ -४ ४ ६ -५ ४ ५ १

    ReplyDelete

मैं आपके दिए स्नेह का शुक्रगुज़ार हूँ !
आप सब खुश और स्वस्थ रहें ........

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...