Thursday, March 29, 2012

यादेँ....यादेँ..... बस यादेँ ही यादेँ !!!

यादेँ ......!!!
एक अकेला सा शब्द 
एक बेचारा सा शब्द 
अपने में दुनिया समेटे 
दुखों-सुखों  का संसार समेटे 
अकेलेपन का सहारा सा शब्द ,

एक गुज़रा ,भूला सा वक्त 
एक तन्हा सा शब्द 
दिमाग के किसी कोने में 
एक यतीम सा छोड़ा हुआ
एक 'अकेला'बेसहारा सा शब्द ||



न रहा है ,न रहेगा 
कुछ भी पास तेरे 

भूली-बिसरी यादेँ ही 
रह जाएँगी पास तेरे 

तू किस बात पे भरमाया है 
बस ये यादेँ ही तेरा सरमाया है ||
अशोक..अकेला..



31 comments:

  1. शानदार- भावपूर्ण!!

    ReplyDelete
  2. तू किस बात पे भरमाया है
    बस ये यादेँ ही तेरा सरमाया है ||

    Bahut Sunder...

    ReplyDelete
  3. शब्द अकेला है पर जीवन के सारे बीते अध्याय समेटे है।

    ReplyDelete
  4. वाह !!!!! बहुत बेहतरीन भाव अभिव्यक्ति,

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: तुम्हारा चेहरा,

    ReplyDelete
  5. बहुत खूब सलूजा साहब !
    कर रहा हूँ कबसे तय अकेला, दश्त का वीरान सफ़र,
    इक तेरी याद न होती तो साथ का भी अहसास न होता !

    ReplyDelete
  6. यादों का सफ़र कभी न रुके... अनवरत चले!
    सादर!

    ReplyDelete
  7. हँसी रुदन शर्माना इठलाना .... सबकुछ इन्हीं यादों में है

    ReplyDelete
  8. यादों का सिलसिला यूँ ही चलता रहे ..आभार

    ReplyDelete
  9. भूली-बिसरी यादेँ ही
    रह जाएँगी पास तेरे

    तू किस बात पे भरमाया है
    बस ये यादेँ ही तेरा सरमाया है ||
    प्रभुजी तुम चन्दन हम पानी ,
    प्रभुजी तुम दिग्विजय(चाणक्य ).. हम राहुल (मंद मति ) ,

    ReplyDelete
  10. भूली बिसरी यादें लेकर ,याद सुहाने बचपन की ,
    रात बिरात चली आतीं हैं ,नींद चुराने नैनं की ,
    अब कह दूँगी ,करते करते कितने सावन बीत गए ,
    जाने कब इन आँखों का शर्माना जाएगा ,
    दीवाना सैंकड़ों में पहचाना जाएगा ....

    ReplyDelete
  11. भूली हुई यादों मुझे इतना न सताओ ,
    अब चैन से रहने दो ,मेरे पास न आओ ...

    ReplyDelete
  12. प्रभुजी तुम चन्दन हम पानी ,
    प्रभुजी तुम दिग्विजय(चाणक्य ).. हम राहुल (मंद मति ) ,

    ReplyDelete
  13. यादें.....जब कुछ नहीं तब ये ही तो हैं....

    सुन्दर रचना...
    सादर.

    अनु

    ReplyDelete
  14. यादों की अक्षय निधि...

    ReplyDelete
  15. यादों का कांरवा धड़कनों के साथ आगे बढ़ता रहता है ... हर पल

    ReplyDelete
  16. सत्य वचन । यादों के सहारे भी जिंदगी अच्छी गुजर जाती है ।

    ReplyDelete
  17. ये यादें ही है जो हमें जिन्दा होने का अहसास कराती है

    शानदार प्रस्तुति

    आभार

    ReplyDelete
  18. यादें एहसास कराती हैं कि हम जिंदा हैं ... बहुत अच्छी और गहन बात

    ReplyDelete
  19. yaaden hi to sabse pyare nagmen haen jo sdaev hi ham gungunate haen.sundar rachna hae sirji aapke vichar mere blog par aamantrit haen sdaev .

    ReplyDelete
  20. यादों ने साथ निभायाहै ,

    थोड़ा थोड़ा भरमायाहै ,यादों का फिर भी साया है ,

    जो खोया वो पछताया है ,

    यादों को दोष लगाया है .

    ReplyDelete
  21. यादों कि गहन अनुभूतियाँ ....बहुत खूबसूरत रचना बन पड़ी है ...!!
    बधाई एवं शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. अनुपमा जी,
      इस मान-सम्मान का बहुत-बहुत आभार !

      Delete
  22. सर ...आपकी 'यादें' बेहद पसंद आई। जो कुछ भी आपने कहना चाहा ..उससे सहमत हूं। आपको श्रीरामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएं/ मंगलकामनाएं!

    ReplyDelete
  23. न रहा है ,न रहेगा
    कुछ भी पास तेरे

    भूली-बिसरी यादेँ ही
    रह जाएँगी पास तेरे

    अगर यादें न हों तो दुनिया कितनी वीरान लगेगी !!

    एक अच्छी कविता।

    ReplyDelete
  24. यादों के ताने बाने से बुनी .. यादों के झरोखे पे बैठ के लिखी ... यादों का गहरा एहसास लिए ... यादगार शब्द ...

    ReplyDelete
  25. yaaden hi jeene ka sabab ban jaati hain man me umadte bhaavon ko bakhoobi likha hai bahut sundar.

    ReplyDelete
  26. दुआ है ये यादें हमेशा आपके साथ रहे ......

    यूँ न लिखा कीजिये .....

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिल के टुकड़े यूँ ही सजाए जाते हैं
      यादों के दिए ,बस यूँ ही जलाये जाते है ||

      खुश रहें !
      आभार!

      Delete
  27. बहुत भावपूर्ण रचना ... ये यादें न हो तो जीना दूभर हो जाये ... मरी दुआ है की आप ज़िन्दगी में और भी बहुत सारी प्यारी प्यारी यादें बनाते जाएँ ...

    ReplyDelete
  28. आप सब के प्यार और स्नेह के लिए ...
    बहुत-बहुत आभार!
    आप सब खुश और स्वस्थ रहें!

    ReplyDelete

मैं आपके दिए स्नेह का शुक्रगुज़ार हूँ !
आप सब खुश और स्वस्थ रहें ........

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...