Tuesday, January 25, 2011

ऐहसास......................

कुछ ऐहसास मेरे दिल से ...................
.

उसने कहा, हम भूल गये
मेने कहा मैं, मान गया,
उनके दिल में, मैं हूं कहां
मैं अच्छी तरह से जान गया॥


चुप रह कर मैं समझा, मैनें
सब के शिकवे धो दिये,
चुप्पी बनी गुनाह, मेरा
सब रिश्ते मैने खो दिये॥

उम्र कट गयी सारी, दिल को येह समझाने में
शायद तुझको भी चहा हौ किसी ने अनजाने मेँ।।


सब को सुना चुका हूं, मैं अपना अफ़साना
कोई रह गया सिर्फ 'हूं' करके किसी ने समझा
'भला' सिर्फ चुप रेहना॥

शायद यही है मेरा नसीब
रहूँ हमेशा में दुःख के करीब ||


उसी ने दिये जख्म, जो भी मेरा खा़स हुआ
पर बहुत देर बाद इसका एहसास हुआ।
                                                        अशोक"अकेला"





9 comments:

  1. मैं क्या बोलूँ अब....अपने निःशब्द कर दिया है..... बहुत ही सुंदर कविता.

    ReplyDelete
  2. उसी ने दिये जख्म, जो भी मेरा खा़स हुआ
    पर बहुत देर बाद इसका एहसास हुआ।
    दिल के बेहद करीब...
    बेहद प्रभावशाली अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  3. सब को सुना चुका हूं, मैं अपना अफ़साना
    कोई रह गया सिर्फ 'हूं' करके किसी ने समझा
    'भला' सिर्फ चुप रेहना॥
    BILKUL SAHI KAHA

    ReplyDelete
  4. गहन एहसास ....सुंदर रचना ...

    ReplyDelete
  5. उसी ने दिए ज़ख्म जो खास हुआ ... सटीक अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  6. वाह वाह वाह वाह ..
    बहुत सुन्दर ..!!
    kalamdaan.blogspot.com

    ReplyDelete
  7. उसी ने दिये जख्म, जो भी मेरा खा़स हुआ
    पर बहुत देर बाद इसका एहसास हुआ।

    bahut gahri sambedna...aabhar

    ReplyDelete
  8. उसी ने दिये जख्म, जो भी मेरा खा़स हुआ
    पर बहुत देर बाद इसका एहसास हुआ।
    गहरे भाव लिये बेहतरीन प्रस्तुती है

    ReplyDelete

मैं आपके दिए स्नेह का शुक्रगुज़ार हूँ !
आप सब खुश और स्वस्थ रहें ........

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...